BREAKING

छत्तीसगढ़

पूरक की जगह अब साल में दो परीक्षाएं, माशिम ने मंगाई 9 जून तक दावा आपत्ति

माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा कुछ दिनों पूर्व वर्ष में दो बार परीक्षाएं आयोजित किए जाने का निर्णय बीते दिनों लिया गया था। अब इससे संबंधित नियमों का राजपत्र में प्रकाशन किया गया है। मंडल द्वारा इस पर 9 जून तक दावा आपत्ति मंगाई गई है। सुझाव भी इस दौरान मंडल को दिए जा सकेंगे।। 

माशिम ने स्पष्ट किया है कि, निर्धारित तिथि के बाद दावा आपत्ति अथवा सुझाव पर किसी तरह का कोई विचार नहीं किया जा सकेगा। हालांकि अब तक मंडल द्वारा यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि दो बार होने वाली परीक्षा संबंधित प्रावधान मौजूदा सत्र से ही लागू किए जाएंगे अथवा अगले शैक्षणिक सत्र से इसे अपनाया जाएगा। अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, मंडल में इसे लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है।

जून के तीसरे सप्ताह में होगी परीक्षा

राजपत्र में प्रकाशित सूचना में कहा गया है कि पूरक परीक्षाओं के स्थान पर वर्ष में दो बार परीक्षाएं होंगी। प्रथम मुख्य परीक्षा मार्च-अप्रैल में होगी, जबकि द्वितीय परीक्षा जून के तीसरे सप्ताह से प्रारंभ होगी। जो छात्र मुख्य परीक्षाओं में फेल हो

जून के तीसरे सप्ताह में होगी परीक्षा

राजपत्र में प्रकाशित सूचना में कहा गया है कि पूरक परीक्षाओं के स्थान पर वर्ष में दो बार परीक्षाएं होंगी। प्रथम मुख्य परीक्षा मार्च-अप्रैल में होगी, जबकि द्वितीय परीक्षा जून के तीसरे सप्ताह से प्रारंभ होगी। जो छात्र मुख्य परीक्षाओं में फेल हो चुके हैं अथवा अपने अंकों में सुधार करना चाहते हैं, वे द्वितीय परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। दोनों ही परीक्षाओं के लिए आवेदन भरना अनिवार्य होगा। दूसरी परीक्षा में बैठने के लिए वे ही छात्र पात्र होंगे, जिन्होंने पहली परीक्षा दिलाई हो। प्रथम मुख्य परीक्षा की तरह द्वितीय परीक्षा के प्रश्नपत्र भी तीन सेट में तैयार किए जाएंगे। माशिम ने अपने आधिकारिक वेबसाइट में भी इससे संबंधित सूचना अपलोड कर दी है। 

Related Posts