NIT Jamshedpur

प्रत्येक महिला अपने पति के दीर्घायु हेतु करती है वटसावित्री की पूजा, रखती है उपवास – रीती झा

प्रत्येक महिला अपने पति के दीर्घायु हेतु करती है वटसावित्री की पूजा, रखती है उपवास – रीती झा

वटसावित्री पूजा की मौके पर युवा जनशक्ति मोर्चा की महिला प्रदेश अध्यछ रीती झा ने आदित्यपुर मे सभी सहयोगी साथी ओर अन्य महिलाओ के साथ वट पेड़ मे धूम – धाम से पूजा अर्चना की ओर भोले नाथ से सभी महिलाओ को सदा सुहागन होने की कामना की l

श्रीमती झा ने कहा की महिला अपने पति के दीर्घायु हेतु व्रत रखती है एवं व्रत दो दिनों की होती है पहला दिन नहाय – खाय ओर दूसरे दिन महिलाएं नये वस्त्र पहनकर बरगद के पेड़ मे रक्षासुत बांधकर अपने पति की दीर्घायु की कामना करती हैl

वही श्रीमती झा ने इस पर्व के महत्व को बताते हुए कहा कि सावित्री ने अपने पति सत्यवान की प्राण वापिस करने की लिए कठोर पूजन भगवान शिव की की थी भगवान शिव ने यमराज को इनके प्राण वपिस करने को कहा और तभी यमराज को उनके पति के प्राण को वापिस करना पड़ा था और उसी समय से वटसावित्री व्रत करने की परंपरा चली आ रही हैं ओर कहा जाता है कि सनातन धर्म की सबसे उत्तम व्रत भी माना जाता है l

इस मौके पर श्रीमती झा ने सभी महिलाओं को शुभकामनाएं देते हुऐ समाज की सर्वांगीण विकास मे अपना योगदान देने की अपील भी की l

देशभर के 740 एकलव्य विद्यालयों में तीरंदाजी की शुरुआत की जाएगी – अर्जुन मुंडा

देशभर के 740 एकलव्य विद्यालयों में तीरंदाजी की शुरुआत की जाएगी – अर्जुन मुंडा

Jamshedpur :- एनआईटी जमशेदपुर के खेल ग्राउंड में द्वितीय एनटीपीसी राष्ट्रीय तीरंदाजी प्रतियोगिता का रविवार को उद्घाटन केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा के साथ आए जिला तीरंदाजी संघ की अध्यक्ष मीरा मुंडा एवं सरायकेला के उपायुक्त अरवा राजकमल, पद्मश्री तीरंदाज दीपिका कुमारी, पूर्णिमा महतो ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित एवं प्रतियोगिता का शुभारंभ अर्जुन मुंडा ने तीर से निशाना साध कर किया l

पद्मश्री दीपिका को शॉल ओढ़ाकर किया गया सम्मानित

वही कार्यक्रम में पद्मश्री दीपिका को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। सम्बोधन में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देशभर के 740 एकलव्य विद्यालयों में तीरंदाजी की शुरुआत की जाएगी। प्रतिभा को जंगलों और गांवों से ढूंढकर निकाला जाएगा। उन्होंने खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि आप धूप और गर्मी से घबराए बगैर कड़ी मेहनत करें।

जो पानी से नहाता है वह कपड़ा बदल सकता है, लेकिन जो पसीना से नहाता है वह इतिहास

अर्जुन मुंडा ने खिलाड़ियों का मनोबल ऊंचा करते हुए कहा कि जो पानी से नहाता है वह कपड़ा बदल सकता है, लेकिन जो पसीना से नहाता है वह इतिहास बदलता है। इसका उदाहरण दीपिका कुमारी जैसी खिलाड़ी हैं।