Jharkhand Railway

जमशेदपुर रेलवे ने चलाया अतिक्रमण अभियान कई दुकानों को किया ध्वस्त, विकट परिस्थितियों से निपटने के लिए आरपीएफ के जवान मुस्तैद

जमशेदपुर रेलवे ने चलाया अतिक्रमण अभियान कई दुकानों को किया ध्वस्त, विकट परिस्थितियों से निपटने के लिए आरपीएफ के जवान मुस्तैद

Jamshedpur :- परसुडीह थाना अंतर्गत रेलवे लोको कॉलोनी फाटक के निकट चलाया गया अतिक्रमण अभियान जिसमें रेलवे एसएससी लैंड और एसएसपी हाउसिंग के द्वारा अवैध रूप से बने दर्जनों दुकान को तोड़ दिया गया है एवं इस अतिक्रमण अभियान के दौरान विपरीत परिस्थितियों से निपटने के लिए आरपीएफ के महिला एवं पुरुष जवान तैनात भी किए गए हैं जिससे कि कोई भी आकस्मिक घटना ना घटेl इस जगह पर वर्षों से अवैध रूप से कब्जा कर दुकानों को तोड़ा गया

विकट परिस्थिति से निपटने हेतु आरपीएफ के जवान तैनात

जानकारी देते हुए आरपीएफ पदाधिकारी एससी नायक ने बताया कि 15 दुकानों को कोर्ट के आदेश पर ध्वस्त किया गया है. उन्होंने बताया कि दुकान बेचने की बात भी सामने आई है उस पर विभागीय कार्रवाई की जाएगीl

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे देश में बनने वाली 9000 एचपी के शक्तिशाली रेल इंजन के कारखाना का शिलान्यास, 20000 करोड़ रुपये का होगा निवेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे देश में बनने वाली 9000 एचपी के शक्तिशाली रेल इंजन के कारखाना का शिलान्यास, 20000 करोड़ रुपये का होगा निवेश

New Delhi :- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे गुजरात में लगने वाले भारतीय रेलवे का सातवा कारखाना का शिलान्यास जिसमें देश में पहली बार 9000 हार्स पावर के शक्तिशाली इंजन का निर्माण होगा. शक्तिशाली इंजन बनने के बाद मालगाड़ी की औसतन स्पीड बढ़ जाएगी. वहीं कारखाना बनने के बाद आसपास के इलाके में काफी संख्या में वहां के स्थानीय लोगों को रोजगार मिलने की संभावनाएं बढ़ जाएगी l

4500 टन क्षमता की मालगाड़ी दौड़ेगी 120 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से

भारतीय रेलवे गुजरात के दाहोद में इंजन कारखाना लगाने जा रहा है. 20 अप्रैल को प्रधानमंत्री इसका शिलान्यास करेंगे. रेलवे अधिकारियों के अनुसार इस पूरे प्रोजेक्ट में 20000 करोड़ रुपये का निवेश होगा. इसमें 9000 एचपी के इंजनों का निर्माण किया जाएगा. अभी तक देश में 4500 और 6000 एचपी की क्षमता के इंजनों का निर्माण किया जा रहा है. ये शक्तिशाली इंजन 4500 टन क्षमता की मालगाड़ी को 120 किमी. प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ा सकता है. अभी मालगाड़ी की अधिकतम स्पीड 100 किमी प्रति घंटे की है. इस कारखाने में 1200 इंजनों का निर्माण किया जाएगा.

स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार,मजबूत होगी देश की आर्थिक स्थिति, 20 अप्रैल 2022 को होगा शिलान्यास

गुजरात में कारखाना लगने से काफी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलने की संभावनाएं बढ़ जाएगी. वहीं, दूसरी ओर शक्तिशाली इंजन बनने से मालगाड़ी की स्पीड बढ़ेगी. इससे माल एक स्थान से दूसरे स्थान तक कम से काम समय में पहुंचाया जा सकेगा, जिससे व्यापारियों और कारोबारियों को लाभ मिलेगा. मालगाड़ी भी जल्दी जल्दी फेरे लगा सकेंगी. इस तरह यह कारखाना देश की आर्थिक प्रगति में सहयोग करेगा.

इंजन को अपग्रेड कर बढ़ाई गयी थी क्षमता

भारतीय रेलवे ने चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स, कोलकाता में 9000 एचपी का हाईपावर इलेक्ट्रिक इंजन तैयार किया था. यह इंजन मॉडीफाई कर बनाया गया था. जिसकी स्पीड और क्षमता सामान्य इंजनों से अधिक है. इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए 9000 एचपी के इंजनों के लिए कारखाना बनाया जा रहा है.

मौजूदा रेल कारखाना

चित्तरंजन रेलइंजन कारखाना, चित्तरंजन
डीजल रेलइंजन कारखाना वाराणसी
इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नई
रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला
मॉर्डन कोच फैक्ट्री रायबरेली
डीजल इंजन आधुनिकीकरण कारखाना पटियाला.