Others

Jharkhand Panchayat Election बागबेड़ा कॉलोनी के पंचायत समिति सदस्य पद के उम्मीदवार सुनील गुप्ता ने जनसंपर्क अभियान चलाया<br>

Jharkhand Panchayat Election बागबेड़ा कॉलोनी के पंचायत समिति सदस्य पद के उम्मीदवार सुनील गुप्ता ने जनसंपर्क अभियान चलाया

Jamshedpur :- बागबेड़ा कॉलोनी के पंचायत समिति सदस्य पद के सहज, सरल एवं सुलभ प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ पूरे उत्साहवर्धक एवं आत्मविश्वास के साथ जनसंपर्क अभियान चलाया l

चुनाव चिन्ह ब्लैक बोर्ड

शुक्रवार को अपने क्षेत्र का दौरा करते हुए लोगों से बताया की चुनाव चिन्ह ब्लैक बोर्ड क्रमांक संख्या छह पर पंचायत समिति सदस्य के प्रत्याशी सुनील गुप्ता को भारी मतों से जिताने की बात स्थानीय लोगों से कही गई।

स्थानीय लोगों ने अपना अपार समर्थन देने का आश्वासन भी दिया l इस दौरान स्थानीय लोगों ने गर्मी को मध्यनजर रखते हुए कोल्ड ड्रिंक्स पिलाकर समर्थकों का मनोबल बढ़ाने का भी कार्य किया।

झारखंड में 21 मई तक बरसेगी रिमझिम बारिश, मौसम होगा खुशनुमा<br><br><br>

झारखंड में 21 मई तक बरसेगी रिमझिम बारिश, मौसम होगा खुशनुमा


Ranchi :- झारखंड में 21 मई तक बारिश होने की संभावना मौसम विभाग की ओर से जताई जा रही है. मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को हल्की बारिश दर्ज की गई है. कई इलाकों में बादल गरजने और बिजली चमकने की आशंका बनी हुई थी. यहां तक की राज्य के कई इलाकों में लू भी चलने की संभावना बनी हुई है. मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ दिनों तक तापमान में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिलेगा. 21 मई तक बारिश के बाद तापमान में गिरावट देखने को मिल सकती है.

17 से 21 मई तक बारिश के आसार

मौसम विभाग का कहना है कि16 मई से राज्य के कई उत्तर पूर्वी, मध्य और दक्षिणी इलाकों में हल्की बारिश देखने को मिल सकती है. साथ ही 17 मई को राज्य के कई इलाकों में हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है. 18 मई को भी उत्तर पूर्वी और दक्षिण के भागों में भी बारिश की संभावना बनी हुई है. लगातार इसी तरह 21 मई तक राज्य के कई ईलाकों में बारिश की पूरी संभावना बनी हुई है.

शनिवार को धूल भरी आंधी के बाद मौसम में बदलाव

शनिवार के दिन भी मौसम अचानक से बदला और आसमान में बादल देखने को मिले जिससे मौसम काफी ठंडा हो गया था. इसके बाद शाम तक धूल भरी आंधी जो कि 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी. आंधी के कारण कई पेड़, बैनर, पोल और बिजली के तार टूट गए थे. जानकारी के अनुसार पेड़ के नीचे आने से रांची में एक युवक की और धनबाद में एक बच्ची की मौत हो गई थी. साथ ही रांची में एक महिला के ऊपर बिजली गिरने से उसकी मौत हो गई.  हालांकि मौसम में 16 मई से 21 मई तक काफी बदलाव देखे जा सकते हैं. इस बीच बारिश की पूरी संभावना बनी हुई है.

सर जहांगीर घांदी मेडल से नवाजे जाएंगे अपोलो की एग्जीक्यूटिव वाइस चेयरपर्सन प्रीथा रेड्डी, एक्सएलआरआइ के 66 वें कन्वोकेशन में इंडस्ट्रियल पीस के लिए मिलेगा सम्मान

सर जहांगीर घांदी मेडल से नवाजे जाएंगे अपोलो की एग्जीक्यूटिव वाइस चेयरपर्सन प्रीथा रेड्डी, एक्सएलआरआइ के 66 वें कन्वोकेशन में इंडस्ट्रियल पीस के लिए मिलेगा सम्मान

Jamshedpur :- जमशेदपुर कि शान, देश की सबसे पुरानी व प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूल एक्सएलआरआइ के 66 वें दीक्षांत समारोह का आयोजन 23 अप्रैल को होगा.

मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. प्रीथा रेड्डी होंगी शामिल

कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि के रूप में अपोलो हॉस्पिटल्स एंटरप्राइज लिमिटेड की एक्जीक्यूटिव वाइस चेयरमैन डॉ. प्रीथा रेड्डी शामिल होंगी. एक्सएलआरआइ से पास आउट होने वाले सभी 497 विद्यार्थियों के बीच वे दीक्षांत भाषण प्रस्तुत करेंगी. साथ ही इस मौके पर उन्हें एक्सएलआरआइ की ओर से वर्ष 2022 का प्रतिष्ठित ‘सर जहांगीर घांदी मेडल फॉर इंडस्ट्रियल एंड सोशल पीस’ से सम्मानित भी किया जायेगा.

कोरोना संक्रमण के दो साल बाद अब स्थिति सामान्य होने पर दीक्षांत समारोह का हो रहा है सफल आयोजन

इस दौरान टाटा स्टील इंडिया एंड साउथ ईस्ट एशिया के एमडी सह एक्सएलआरआइ के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स टी.वी. नरेंद्रन, एक्सएलआरआइ के डायरेक्टर फादर पॉल फर्नांडीस एसजे, एक्सएलआरआइ के डीन एकेडमिक्स प्रो. डॉ आशीष कुमार पाणी समेत सभी शिक्षक-शिक्षिकाएं व विद्यार्थी मौजूद रहेंगे. गौरतलब है कि इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए पिछले दो साल से इसे ऑनलाइन मोड में किया जा रहा था. लेकिन दो साल के बाद अब स्थिति सामान्य होने पर दीक्षांत समारोह का आयोजन एक्सएलआरआइ अॉडिटोरियम में किया जायेगा. इस दौरान एक्सएलआरआइ के कुल 497 विद्यार्थियों को सर्टिफिकेट प्रदान किया जायेगा.

इन विद्यार्थियों को मिलेगा सर्टिफिकेट

किस कोर्स के कितने विद्यार्थियों को मिलेगा सर्टिफिकेट
पीजी डिप्लोमा इन बीएम – 176 छात्र
पीजी डिप्लोमा इन एचआरएम- 180 छात्र
15 महीने के पीजीडीएम (जेनरल प्रोग्राम)- 93 छात्र
फेलो प्रोग्राम इन मैनेजमेंट- 11 छात्र
पीजीडीएम-बीएम प्रोग्राम (इवनिंग)के 2019-2022 बैच- 37 छात्र जब

जब हम संस्थान से विदा हो रहे विद्यार्थियों को उनके मेहनत के लिए सम्मानित करते हैं- फादर पॉल फर्नांडीस एसजे

दीक्षांत समारोह भविष्य की दिशा में एक महत्वपूर्ण और बड़ा कदम है. दुनिया भर में महामारी के दौरान छात्रों की उपलब्धियां एक्सएलआरआइ परिवार, शासी निकाय, संकाय सदस्यों, कर्मचारियों, छात्रों और पूर्व छात्रों के प्रयासों के बिना संभव नहीं होती. ये एक अवसर होता है जब हम संस्थान से विदा हो रहे विद्यार्थियों को उनके मेहनत के लिए सम्मानित करते हैं. – फादर पॉल फर्नांडीस एसजे, डायरेक्टर, एक्सएलआरआइ

एक्सएलआरआइ ने हमेशा अपने छात्रों को नैतिक आचरण अपनाने, मूल्य-संचालित संस्कृति का पालन करने का सर्वाधिक महत्व दिया है – टीवी नरेंद्रन

1949 में स्थापित एक्सएलआरआइ ने लगातार ऐसे बिजनेस लीडर्स को तैयार किया जो बड़ी पदों पर जाने के बावजूद उच्च व्यक्तिगत मूल्यों व सामाजिक सरोकार को बनाये रखते हैं. एक्सएलआरआइ ने हमेशा अपने छात्रों को नैतिक आचरण अपनाने, मूल्य-संचालित संस्कृति का पालन करने के साथ ही अपने छात्रों के एक अभिन्न चरित्र निर्माण को सर्वाधिक महत्व दिया है, और यही एक्सएलआरआइ को देश के अन्य बी-स्कूलों से अलग करता है. – टीवी नरेंद्रन, एमडी, टाटा स्टील इंडिया एंड साउथ ईस्ट एशिया

कौन हैं डॉ प्रीथा रेड्डी और क्यों मिल रहा है ये सम्मान

डॉ. प्रीथा रेड्डी को व्यापक रूप से लाखों लोगों के लिए उच्च गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवा को सुलभ बनाने में उनके योगदान और भारत की बेहतरी के लिए काम करने वाली विभिन्न संस्थाओं और उद्योग निकायों को उनके समर्थन के लिए जाना जाता है. वे क्लिनिकल परिणामों को लगातार बढ़ाने के लिए समकालीन प्रोटोकॉल शुरू करने में संगठन के 11,000 चिकित्सकों के साथ मिलकर काम करती है. वह रोगी संतुष्टि में उच्चतम मानकों को प्राप्त करने के लिए गुणवत्ता सुधार प्रक्रियाओं पर बल देती हैं. वे अपोलो हॉस्पिटल्स एजुकेशनल ट्रस्ट की मैनेजिंग ट्रस्टी हैं, जो समूह के शैक्षिक प्रयासों को संचालित करने वाली एक प्रमुख संस्था है. डॉ. प्रीता रेड्डी को इकोनॉमिक टाइम्स बिजनेस वुमन ऑफ द ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है. उन्हें उनकी दूरदर्शी दृष्टि, अनुकरणीय कार्य और स्वास्थ्य सेवा और सामाजिक विज्ञान के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए फिक्की द्वारा ‘हेल्थकेयर पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवार्ड’ से भी सम्मानित किया गया था. वह लोयोला फोरम फॉर हिस्टोरिकल रिसर्च द्वारा प्रदत्त सामाजिक विज्ञान के क्षेत्र में विशिष्ट सेवा के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार भी हासिल कर चुकी हैं. उन्हें द नेशनल एचआरडी नेटवर्क द्वारा एनएचआरडीएन ‘पीपल सीईओ अवार्ड्स – वीमेन लीडरशिप’ से सम्मानित किया गया. एशियन बिजनेस लीडर्स फोरम (एबीएलएफ) ने उन्हें बिजनेस करेज के लिए एबीएलएफ अवार्ड से सम्मानित किया था.

महंगाई की मार फिर एक बार जनता बेहाल, दवाइयां और कॉस्मेटिक सामान होगा महंगा, 40 फीसदी तक बढ़े प्लास्टिक के दाम

महंगाई की मार फिर एक बार जनता बेहाल, दवाइयां और कॉस्मेटिक सामान होगा महंगा, 40 फीसदी तक बढ़े प्लास्टिक के दाम

New Delhi :- पीवीसी, गत्ते व स्टील के बाद अब प्लास्टिक की कीमतों में भी वृद्धि हो गई है. रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. इससे मालभाड़ा बढऩे से प्रदेश के सबसे बड़े फार्मा हब बीबीएन के उद्योगों में कच्चा माल महंगा पहुंच रहा है. फार्मा हब में प्लास्टिक की ट्यूब, बोतल, ढक्कन और लेमी ट्यूब का इस्तेमाल होता है, लेकिन प्लास्टिक के दाम बढऩे से यह महंगा आने लगा है. इसका असर दवाइयों और कॉस्मेटिक सामान की कीमतों पर भी पड़ेगा.

40 फ़ीसदी तक हुई बढ़ोतरी, प्लास्टिक का दाना 125 रुपये से बढ़कर हुआ 155

प्लास्टिक की ट्यूब व लेमी ट्यूब में 40 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है. प्लास्टिक का दाना 125 रुपये प्रति किलो से बढ़कर 155 रुपये हो गया है. डेढ़ रुपये वाली ट्यूब अब दो रुपये में मिल रही है. इसके अलावा ढक्कन, बोतल आदि भी 35 से 40 फीसदी तक महंगे हो गए हैं. इससे अब दवाओं की पैकेजिंग भी महंगी हो गई है, क्योंकि कॉस्मेटिक और एंटीबायोटिक स्किन पर लगने वाली सभी दवाएं और क्रीम इन प्लास्टिक की डिब्बियों में पैक होती है. लिक्विड दवाएं और सिरप भी प्लास्टिक की बोतल में ही भरे जाते हैं. ऐसे में इनके महंगे होने से अब दवाओं पर असर होना तय है. बीबीएन में करीब 350 दवा कंपनियां हैं, जिन पर इसका सीधा असर हो रहा है.

रूस-यूक्रेन युद्ध का पड़ रहा है असर

ईआई के प्रदेशाध्यक्ष चिंरजीव ठाकुर ने बताया कि कच्चे माल पर रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते काफी असर पड़ा है. डीजल-पेट्रोल के दामों में लगातार बढ़ोतरी से कच्चे माल की कीमतें बढ़ रही हैं. पांच से दस रुपये प्रति लीटर डीजल का दाम कुछ ही दिनों में बढऩे से भाड़ा बढ़ गया है. प्रदेश उपाध्यक्ष सुमित सिंगला ने बताया कि प्लास्टिक दाने के रेट बढऩे से दवा कंपनी में लगने वाले ढक्कन, बोतल व लेमी ट्यूब आदि मंहगे हो गए हैं, जिससे उत्पादन लागत बढ़ रही है. संवाद

पहले इन सभी के बढ़े थे दाम

फार्मा उद्योगों में लगने वाले एल्यूमीनियम फॉयल के दाम बढ़े पहले एल्यूमीनियम का दाम 232 रुपये प्रति किलो था जो युद्ध के बाद 400 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया. पीवीसी 120 से बढ़ कर 190 रुपये प्रति किलो पहुंच गई. मोना कार्टन 85 से 95 रुपये प्रति किलो हो गया. स्टील के दाम 55 से 62 रुपये प्रति किलो हो गए.