Bagbera Jalapurti Yojna

बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना बड़ौदा घाट नदी में बनाए गए 11 पाए में से एक पाया गिर चुका, दो और गिरने वाला ग्रामीणों ने आंदोलनकारी सुबोध झा को दी जानकारी

बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना बड़ौदा घाट नदी में बनाए गए 11 पाए में से एक पाया गिर चुका, दो और गिरने वाला ग्रामीणों ने आंदोलनकारी सुबोध झा को दी जानकारी

Jamshedpur :- बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना के लिए बरोदा घाट में बनाए गए 22 पाया में से 11 पाया का निर्माण हो चुका है निर्माण के कुछ ही महीनों बाद एक पाया नदी में गिर गया और ग्रामीणों ने बताया कि दो पाया कभी भी गिर सकती है। इसकी सूचना मिलते ही बागबेडा महानगर विकास समिति एवं संपूर्ण घाघीडीह विकास समिति के संरक्षक सह अध्यक्ष ग्रामीण जलापूर्ति योजना के आंदोलनकारी सुबोध झा के अगुवाई में समिति के सदस्यों ने बागबेड़ा के बरोदा घाट में बनाए गए पाए का निरीक्षण करने पहुंचे।

आंदोलनकारी सह भाजपा नेता सुबोध झा ने कहा बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना धरातल पर अभी उत्तरी भी नहीं है। और योजना ध्वस्त होने लगी है। सुबोध झा ने पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अधीक्षक अभियंता श्री शिशिर सोरेन जी को इसकी जानकारी दे दी हैl

बड़ौदा घाट नदी में गिरा हुआ पाया

अधीक्षक अभियंता शिशिर सोरेन ने कहा एक-से दो दिन में मैं बरोदा घाट में जो बनाए गए पाए हैं उसका निरीक्षण करूंगा क्योंकि उसी के ऊपर से पाइप लाइन को गुजरना है। अगर पाया सही सलामत नहीं होंगे तो घरों तक पानी पहुंचने में विलंब होगी ,सभी कार्यों को सही रूप से पूर्ण कराया जाएगा।

आंदोलनकारी सुबोध झा ने कहा योजना का शुभारंभ होने पर सभी आंदोलनकारी सभी जनता जनार्दन इसका स्वयं निरीक्षण करें सही रूप से कार्य हो इसके लिए सभी लोग बढ़ चढ़कर हिस्सा लें और अच्छे तरीके से काम करवा कर इस योजना का लाभ आम जनता को उपलब्ध कराएं और आप सभी जनता इसका लाभ लें।

पूर्व में भी निरीक्षण करते आंदोलनकारी

आज के इस निरीक्षण के कार्यक्रम में मुख्य रूप से जल आंदोलनकारी सुबोध झा के साथ आंदोलनकारी छोटे राय मुर्मू, कृष्णा चंद्र पात्रो, ऋतु सिंह, प्रभा हास्दा, सपन कुमार दास, डॉ संदीप कुमार, अमीना खातून, सावित्री कुमारी ,श्वेता कुमारी, विमल कुमार, विश्वजीत पात्रो आदित्य कुमार झा, मनोज कुमार सिंह राकेश कुमार एवं अन्य लोग शामिल थे।

जमशेदपुर बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना का टेंडर 27 से 28 जुलाई तक किया जाएगा  – अभियंता प्रमुख

जमशेदपुर बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना का टेंडर 27 से 28 जुलाई तक किया जाएगा – अभियंता प्रमुख

बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना के जल आंदोलनकारी बागबेड़ा महानगर विकास समिति के अध्यक्ष सुबोध झा के नेतृत्व में कई आंदोलनकारियों ने 25 जुलाई को रांची के नेपाल हाउस मुख्यालय में झारखंड सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अभियंता प्रमुख श्री रघुनंदन शर्मा से मिले।

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के अभियंता प्रमुख श्री रघुनंदन शर्मा से मिलकर बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना की विस्तृत जानकारी आंदोलनकारियों के द्वारा मांगी गई। बागबेड़ा हाउसिंग कॉलोनी जलापूर्ति योजना की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराने के साथ-साथ बागबेड़ा छोटा गोविंदपुर ग्रामीण जलापूर्ति की विस्तृत जानकारी दे दी गई।

अभियंता प्रमुख रघुनंदन शर्मा ने आंदोलनकारी सुबोध झा ,मनोज कुमार को कहे बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना का टेंडर 27 से 28 जुलाई तक कर दिया जाएगा। जमशेदपुर से अधीक्षक अभियंता शिशिर सोरेन, एसडीओ अनुज सिंहा, जेई भागीरथ कुमार को बुलाया गया है। अभियंता प्रमुख के सीडीपीओ सुधा कांत झा के ऑफिस में बैठा कर सारा डॉक्युमेंट्स पेपर टेंडर के लिए तैयार किया जा रहा है ।

विभाग के कार्यालय में उपस्थित आंदोलनकारी

बागबेड़ा को मिलेगा 68 करोड़ 88 लाख रुपए का राशि

बागबेड़ा ग्रामीण जलापूर्ति योजना के लिए 68 करोड़ 88 लाख रुपए का प्रकलन राशि तैयार कर दी गई है ।जिसका टेंडर 27 से 28 जुलाई को निकाल दी जाएगी। बागबेड़ा हाउसिंग कॉलोनी के फिल्टर प्लांट के निर्माण के लिए 2 करोड़ 93 लाख रुपया का राशि तैयार कर दी गई है। इसका भी टेंडर 1 हफ्ते के अंदर कर दिया जाएगा राशि की स्वीकृति के लिए मुख्यालय भेजा गया है।

गोविंदपुर जलापूर्ति योजना को मिलेगी 7 करोड़ 21 लाख

मनोज कुमार ने छोटा गोविंदपुर के बारे में जानकारी मांगी तो अभियंता प्रमुख रघुनंदन शर्मा ने कहा छोटा गोविंदपुर ग्रामीण जलापूर्ति योजना के मेंटेनेंस के लिए एक ही व्यक्ति के द्वारा टेंडर भरे जाने के कारण टेंडर रद्द कर दिया गया था ‌। पुणह टेंडर की प्रक्रिया पूरी करने के बाद टेंडर निकाली की स्वीकृति दे दी गई ,जिसकी लागत 7 करोड़ 21 लाख रुपए की है।

विभाग द्वारा आंदोलनकारियों के बीच दस्तावेज भी उपलब्ध कराई गए

बागबेड़ा जलापूर्ति योजना के अध्यक्ष सुबोध झा एवं आंदोलनकारियों को विभाग द्वारा सारा डॉक्युमेंट्स उपलब्ध कराया गया और कुछ समय विभाग को देने के लिए आग्रह भी किया गया।

सुबोध झा के साथ आंदोलनकारी मनोज कुमार, श्रीनिवास गुप्ता ,विनोद कुमार, अखिलेश कुमार सिंह मुख्य रूप से शामिल थे।