UP: वाराणसी में एक लाख के इनामी मोनू चौहान की पुलिस मुठभेड़ में मौत

Uttar Pradesh

एसएसपी (SSP) अमित पाठक ने बताया कि मोनू ने पिछले 9 दिनों में एक के बाद एक कई अपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया. जिसमें मुख्य रूप से तीन हत्या की घटनाएं शामिल हैं.

वाराणसी. वाराणसी (Varanasi) में रिंग रोड के निकट ऐढ़े गांव के समीप रविवार देर शाम पुलिस और क्राइम ब्रांच की मुठभेड़ (Encounter) में एक लाख रुपये का इनामी बदमाश मोनू चौहान ढेर हो गया. मुठभेड़ के दौरान पांडेयपुर चौकी प्रभारी राजकुमार पांडेय और क्राइम ब्रांच के सिपाही विनय सिंह को भी गोली लगी है. दोनों पुलिसकर्मियों को मलदहिया स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया है. दोनों की हालत खतरे से बाहर है. मोनू को एक गोली बाएं पैर और दूसरी सिर में लगी। कबीरचौरा स्थित मंडलीय अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया.

एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि मोनू ने पिछले 9 दिनों में एक के बाद एक कई अपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया. जिसमें मुख्य रूप से तीन हत्या की घटनाएं शामिल हैं. जिसमें घड़ी व्यापारी की भी हत्या शामिल रही. जिसने लूट के बाद अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. इस घटना के बाद पुलिस ने मामले की जांच की तो मोनू चौहान का नाम सामने आया, मोनू सनी गिरोह का शार्प शूटर माना जाता है. जिसके ऊपर 50000 हजार का इनाम भी घोषित है. पुलिस को जब इस घटनाओं में मोनू के नाम आने के बाद उसके ऊपर 1 लाख रुपये का इनाम किया और इसकी खोजबीन शुरू हो गयी.

ये भी पढे़ं- योगी सरकार ने कोरोना काल में दिया ‘आपदा में अवसर’ मंत्र, सेनीटाइजर उत्पादन में बनाया रिकॉर्ड



अमित पाठक के मुताबिक पुलिस का दबाव पड़ते ही इनामी बदमाश मोनू भागने के फिराक में निकला ऐसे में पुलिस को मुखबिर से पता चला कि मोनू बनारस सीमा पर लालपुर रोड अपने साथी अनिल के साथ जाने वाला है. सूचना मिलते ही क्राइम ब्रांच व पुलिस ने इलाके की घेराबंदी करते हुए आनेजाने वालों की चेकिंग शुरू की. तभी एक बाइक सवार पर संदेह हुआ जैसे ही पुलिस करीब पहुची बदमाशों ने फ़ायरींग करनी शुरू कर दी. जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल हो गए. लेकिन पुलिस के जवाबी कार्रवाई में मोनू को गोली लग गयी और साथी अनिल भागने में कामयाब हुआ. घायल बदमाश मोनू को पुलिस अस्पताल लेकर आई जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी.

News Article & Images Source: https://hindi.news18.com/

Leave a Reply