कोविड: उत्तर भारत में नाइट कर्फ्यू और जुर्माने के साथ सख्ती, दक्षिण में 'राहत'

National

देश में एक बार फिर कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) की लहर देखने को मिल रही है. किसी राज्य में दूसरी तो कहीं तीसरी लहर का दावा है.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और मणिपुर के बाद उत्तर प्रदेश, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को थामने के लिए टीमें उतार दी हैं. उत्तर भारत के कई राज्यों में स्थानीय सरकारों ने कई शहरों और जिलों में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) लगाने का फैसला लिया है. हालांकि त्यौहारी सीजन के बाद देश में लगातार 15 दिन से संक्रमण के 50 हजार से कम मामले सामने आ रहे हैं, संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 90 लाख को पार कर गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर जारी बयान में कहा गया है कि राज्यों में भेजी गईं केंद्र सरकार की टीमें सबसे ज्यादा एक्टिव केस वाले जिलों में जाकर स्थानीय प्रशासन को मदद कर रही हैं, जैसे सर्विलांस, टेस्टिंग, संक्रमण नियंत्रण में उनकी भूमिका स्पष्ट है. उद्देश्य एक है. वायरस संक्रमण पर नियंत्रण पाना.

पिछले 12 दिन से देश में संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 5 लाख से कम है. 26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में एक्टिव केस 20 हजार से कम हैं. लेकिन, सात राज्यों में एक्टिव केस 20 हजार से 50 हजार के बीच हैं. महाराष्ट्र और केरल में एक्टिव केस 50 हजार से ज्यादा हैं.



मंत्रालय के मुताबिक दिल्ली और केरल में संक्रमण के सबसे ज्यादा केस सामने आ रहे हैं. हर रोज तकरीबन 5 हजार से ज्यादा केस. दिल्ली में संक्रमण का प्रभाव हरियाणा और राजस्थान के एनसीआर क्षेत्रों में भी देखने को मिल रहा है.
राजधानी दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर चल रही है. केंद्र सरकार राज्य को आईसीयू बेड्स, आरटी-पीसीआर टेस्ट की दोगुनी संख्या और घर-घर जाकर सर्वे करने में मदद कर रही है. राजधानी के सभी प्राइवेट अस्पतालों को 80 फीसदी आईसीयू बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने को कहा गया है. मास्क नहीं पहनने वालों के लिए जुर्माने की राशि 500 से 2 हजार रुपये कर दी गई है.

महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए दिल्ली से ट्रेन और फ्लाइट्स सेवाएं कैंसिल करने पर विचार हो रहा है. बीएमसी ने मुंबई में सभी स्कूलों को 31 दिसंबर तक बंद रखने का निर्देश दिया है. राज्य में पिछले 7 दिन से लगातार 5 हजार से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं. शनिवार को सबसे ज्यादा 5,760 केस सामने आए.

दिल्ली से सटे हरियाणा में पिछले हफ्ते पहली बार एक दिन में 3 हजार केस सामने आए. राज्य में 30 नवंबर तक स्कूल बंद रहेंगे. राजस्थान में गहलोत सरकार ने ज्यादा केस वाले आठ जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है.

नवंबर में राजस्थान में हर दिन 1,700 से 3,000 हजार के बीच संक्रमण के मामले सामने आए हैं. शहरी इलाकों में बाजार शाम 7 बजे बंद हो जाएंगे और रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक जयपुर, जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर और भीलवाड़ा में नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा. मास्क ना पहनने पर जुर्माना अब 200 के बजाय 500 लगेगा.

राजस्थान के पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश में रात के 10 बजे से सुबह के 6 बजे तक भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, रतलाम और विदिशा में नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया गया है. इन जिलों में संक्रमण की दर 5 प्रतिशत है. शनिवार को राज्य में 1,500 मामले सामने आए और पिछले 40 दिनों में ये सबसे ज्यादा है. शिवराज सरकार ने 31 दिसंबर तक 8वीं क्लास तक स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राज्य गुजरात में भी कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. शनिवार को राज्य में 1,515 मामले दर्ज किए हए. मार्च के बाद राज्य में एक दिन में ये सबसे ज्यादा केस हैं. अहमदाबाद में सबसे ज्यादा केस निकल रहे हैं. शहर में सोमवार की सुबह तक कर्फ्यू का ऐलान किया गया था. सिर्फ दूध और दवा की दुकानों को ही खुले रखने की अनुमति है.

अहमदाबाद में सोमवार की रात से अनिश्चितकाल के लिए नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया जाएगा. साथ ही सूरत, राजकोट और वड़ोदरा में शनिवार से ही रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है.

दूसरी ओर दक्षिणी भारत में तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु सहित ओड़िशा में संक्रमण के मामलों में कमी देखी गई है. तमिलनाडु में एक्टिव केस 12,542 है, जोकि पिछले महीने के मुकाबले 50 फीसदी कम है. संक्रमण के मामले कम होने के बाद राज्य सरकार ने 9वीं और 12वीं के स्कूलों सहित सिनेमाहाल को भी खोलने की अनुमति दे दी है.

इसी तरह, ओड़िशा में भी संक्रमण के मामलों में कमी आई है. 22 नवंबर को खत्म हुए सप्ताह तक हर रोज औसत रूप से 660 मामले दर्ज किए गए हैं. एक महीने पहले ओड़िशा में औसत रूप से हर रोज 1,600 केस आ रहे थे.

आंध्र प्रदेश में लगातार 13वें दिन 2 हजार से कम मामले दर्ज किए गए हैं. तेलंगाना में अब औसत रूप से 950 केस रोज आ रहे हैं. सिर्फ 15 नवंबर को राज्य में वायरस संक्रमण के मामले 1,000 से ज्यादा दर्ज किए गए थे.

News Article & Images Source: https://hindi.news18.com/

Leave a Reply