आज का मौसम, 23 नवंबर: पहाड़ों पर बर्फबारी, दक्षिण भारत में बारिश का अनुमान, दिल्‍ली की हवा और बिगड़ेगी

National

Weather Forecast Today: दिल्ली के कुछ हिस्सों में शीत लहर के बीच रविवार को न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो 2003 के बाद से नवंबर में सबसे कम तापमान है.

नई दिल्ली. उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में रविवार को न्यूनतम तापमान गिर गया. इससे देश के बड़े हिस्‍सें में ठंड (Winter 2020) बढ़ गई है. श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से तीन डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया. वहीं दिल्ली के कुछ हिस्सों में शीत लहर के बीच रविवार को न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो 2003 के बाद से नवंबर में सबसे कम तापमान है. मौसम विभाग ने सोमवार को हिमाचल प्रदेश और जम्‍मू कश्‍मीर के ऊंचाई वाले स्‍थानों पर बर्फबारी और बारिश का अनुमान जताया है. साथ ही दक्षिण भारत के कुछ हिस्‍सों में तूफान के कारण बारिश हो सकती है. वहीं दिल्‍ली की हवा और बिगड़ने की बात कहीं गई है.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, दिल्‍ली में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो पिछले 14 साल में इस महीने में सबसे कम रहा. आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, ‘सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. यह नवंबर 2003 के बाद से दिल्ली में इस महीने में दर्ज हुआ सबसे कम तापमान है. नवंबर 2003 में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.’ उन्होंने बताया कि पालम मौसम केंद्र में न्यूनतम तापमान गिरकर 6.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया. श्रीवास्तव ने कहा, दिल्ली जैसे छोटे क्षेत्रों में एक दिन के लिए भी यदि यह मापदंड पूरा होता है, तो शीत लहर की घोषणा की जा सकती है.

दिल्‍ली की हवा खराब
दिल्ली की वायु गुणवत्ता रविवार को ‘खराब’ श्रेणी में रही और सरकारी एजेंसियों ने कहा है कि प्रतिकूल मौसम दशाओं के कारण उसके और बिगड़ने की आशंका है. दिल्ली में रविवार को 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 274 रहा जबकि शनिवार को यह 251 दर्ज किया गया था. इसी प्रकार दिल्ली में शुक्रवार, बृहस्पतिवार और बुधवार को एक्यूआई क्रमश: 296, 283 और 211 रहा था. दिल्ली स्थित केंद्र सरकार की वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान प्रणाली ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता सोमवार को प्रतिकूल मौसम दशाओं के चलते बिगड़कर ‘अत्यंत खराब’ श्रेणी में पहुंच जाने की आशंका है.
जम्‍मू-कश्‍मीर में बर्फबारी अनुमान


बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालयी इलाकों से ठंडी हवा बहने के कारण तापमान में गिरावट आई है. हालांकि ताजा पश्चिमी विक्षोभ के कारण आगामी चार से पांच दिन में न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होने की संभावना है. जम्मू कश्मीर के श्रीनगर समेत घाटी के कई इलाकों में न्यूनतम पारा रविवार को शून्य से नीचे चला गया. गुलमर्ग कश्मीर का सबसे सर्द इलाका रहा. मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार रात को श्रीनगर का तापमान शून्य से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. यह इस मौसम का सबसे कम तापमान है. अधिकारी ने कहा कि 23 से 25 नवंबर के बीच खासकर, ऊंचाई वाले इलाकों में बारिश और बर्फबारी की संभावना है. उन्होंने बताया कि जम्मू कश्मीर के उत्तर पश्चिम हिस्से और सोनमर्ग-जोजिला के ऊंचाई वाले इलाकों में 23 नवंबर की सुबह से बर्फबारी की संभावना है और यह 25 नवंबर तक जारी रह सकती है.

हिमाचल में बर्फबारी के आसार
शिमला में मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में बुधवार को भारी बारिश और बर्फबारी होने का अनुमान जताया है जबकि राज्य के कुछ जिलों में शीतलहर जारी है. शिमला मौसम विज्ञान केन्द्र ने इससे पहले रविवार से बुधवार के बीच बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया था. हालांकि शिमला मौसम विज्ञान केन्द्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने रविवार को कहा कि बुधवार को मध्यम ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों की दूर-दराज की जगहों पर भारी बारिश और ऊंचे पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी की संभावना को देखते हुए ‘येलो वेदर’ चेतावनी जारी की गई है.

मौसम केन्द्र जान-माल के लिये नुकसानदेह साबित होने वाले खराब अथवा बेहद खराब मौसम की आशंका के मद्देनजर विभिन्न रंगों से संबंधित चेतावनियां जारी करता है. येलो अलर्ट सभी चेतावनी स्तर के लिहाज से सबसे कम खतरे का सूचक होता है. यह अगले कुछ दिन मौसम खराब रहने की आशंका की ओर इशारा करता है.

राजस्‍थान में ठंड बढ़ी
राजस्थान में सर्दी लगातार बढ़ती जा रही है, जहां माउंट आबू में रात का न्यूनतम तापमान लगातार दूसरे दिन भी एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग के अनुसार बीती शनिवार रात में राज्य के एक मात्र पर्वतीय पर्यटक स्थल माउंट आबू में न्यूनतम तापमान सबसे कम 1.0 डिग्री सेल्सियस रहा. विभाग ने राज्य में आगामी 24 घंटे के दौरान रात के तापमान में और गिरावट होने की संभावना जताई है.

चक्रवाती तूफान के 25 को तमिलनाडु, पुडुचेरी तटों को पार करने का अनुमान
बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने और इसके एक चक्रवाती तूफान में बदलने की आशंका है. इस तूफान के 25 नवम्बर को तमिलनाडु और पुडुचेरी तटों को पार करने का अनुमान है. मौसम विभाग ने रविवार को यह जानकारी दी. विभाग ने बताया कि इसके प्रभाव से 25 नवम्बर को तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल क्षेत्रों के ज्यादातर स्थानों पर बारिश होने और कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने और दूरदराज के क्षेत्रों में बेहद भारी बारिश होने की आशंका है.

विभाग ने एक बुलेटिन में बताया, ‘समुद्र की स्थितियां प्रतिकूल रहेंगी और रविवार से हवा की गति धीरे-धीरे बढ़ने का अनुमान है. बंगाल की दक्षिण-पश्चिम खाड़ी और तमिलनाडु तथा पुडुचेरी के तटों पर 25 नवम्बर को 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती है.’ दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत में 23 नवम्बर से बारिश की गतिविधि बढ़ने का अनुमान है और तमिलनाडु, पुडुचेरी तथा कराईकल क्षेत्रों में 24 और 26 नवम्बर के बीच गरज चमक के साथ बारिश हो सकती है. बुलेटिन में कहा गया है कि दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा और तेलंगाना में भी 25 से 26 नवंबर तक बारिश होने का अनुमान है.

News Article & Images Source: https://hindi.news18.com/

Leave a Reply