उद्धव ठाकरे ने लोगों को चेताया, बोले- सुनामी जैसी होगी कोविड की दूसरी लहर

Maharashtra

Maharashtra Coronavirus Cases: अजित पवार ने यह भी कहा कि राज्य सरकार अगले 8-10 दिन तक स्थिति की समीक्षा करेगी और इसके बार लॉकडाउन लागू करने के बारे में कोई फैसला लेगी.

मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) समेत कई राज्यों में त्योहारों के बाद से लगातार बढ़ रहे मामलों को लेकर चिंता बढ़ती जा रही है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) ने इस संबंध में लोगों को चेताते हुए कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर सुनामी जैसी होगी. ठाकरे ने कहा कि जब भी वैक्सीन (Vaccine) आती है हमें करीब 25 करोड़ खुराक की जरूरत होगी. ठाकरे ने कहा कि तब तक सिर्फ तीन उपाय हैं- मास्क (Mask), सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) और हाथों को साफ रखना (Hand Hygine).

इसके पहले उप मुख्यमंत्री अजित पवार (Deputy CM Ajit Pawar) ने दिवाली (Diwali) के मौके पर इकट्ठा हुई लोगों की भीड़ को लेकर कहा था कि दिवाली पर लोग ऐसे इकट्ठा हो गए थे जैसे कि बड़ी संख्या में लोगों की मौजूदगी से कोरोना वायरस मर जाएगा. अजित पवार ने यह भी कहा कि राज्य सरकार अगले 8-10 दिन तक स्थिति की समीक्षा करेगी और इसके बार लॉकडाउन लागू करने के बारे में कोई फैसला लेगी.

ये भी पढ़ें- पुलिस एक्ट में बड़ा बदलाव, अपशब्द पर भी होगी सजा; CM बोले- अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ नहीं



हालांकि ठाकरे ने कहा कि वह कानून को लागू करने में विश्वास नहीं करते हैं और वह चाहते हैं कि लोग खुद इसके लिए जिम्मेदारी लें. ठाकरे ने कहा कि मुझे नाइट कर्फ्यू लागू करने की सलाह दी जा रही है. लेकिन मैं कानून लागू करने में विश्वास नहीं करता. लोगों को खुद एहतियात बरतनी चाहिए.
राज्य में फिर से खुलने जा रहे हैं स्कूल
डिप्टी सीएम ने आगे कहा कि सरकार ने स्कूलों को शुरू करने के लिए बहुत सारे नियम बनाए हैं, जिसमें स्वच्छता के तरीके शामिल हैं. राज्य सरकार ने स्थानीय क्षेत्रों में कोविड -19 स्थिति के आधार पर सोमवार से कक्षा 9 से 12 के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी है.

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र में लग सकता है लॉकडाउन, अजित पवार बोले- समीक्षा के बाद होगा फैसला

पवार का यह बयान ऐसे समय में आया है जब कयास लगाए जा रहे हैं कि राष्ट्रीय राजधानी में बढ़ते कोरोनोवायरस के मामलों के मद्देनजर राज्य दिल्ली से ट्रेन और उड़ान संचालन को निलंबित कर सकता है. दिल्ली से राज्यों में प्रवेश करने वालों के लिए उत्तर प्रदेश और हरियाणा पहले ही टेस्ट अनिवार्य कर चुके हैं.

प्रधान सचिव संजय कुमार ने पीटीआई के हवाले से कहा, “राज्य में फैले वायरस पर अंकुश लगाने के लिए और दिल्ली से ट्रेन और उड़ान संचालन को स्थगित करने और उनमें से एक के लिए विभिन्न उपायों पर चर्चा की जा रही है.” उन्होंने कहा कि “हालांकि, इस पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है.”

News Article & Images Source: https://hindi.news18.com/

Leave a Reply